×

बाढ़ ने मचाया हड़कंप, लोग हुए बेहाल

भारी बारिश के कारण उत्तर पश्चिमी बेंगलुरु में डोड्डबीदारकल्लू झील की बांध टूट गई, परिणाम स्वरूप 500 से अधिक क्षेत्र की संपत्ति हुई नष्ट



News

A building that collapsed because of the flash flood

Nisha singh %281%29

Nisha Singh


"जब मैंने देखा कि बाहर हंगामा क्या है, तो मैं हैरान था सीवेज और कचरे के साथ मिला हुआ पानी पूरी क्षेत्र में भर गया था और पांच से छह फीट तक बाढ़ का पानी भर चुका था।" रुकमनी नगर के एक निवासी, प्रकाश ने कहा कहा। उत्तर पश्चिमी बेंगलुरु में अक्टूबर को जोरदार बारिश होने के कारण डोड्डबीदारकल्लू झील का बांध टूट गया जिसके परिणाम स्वरूप बाढ़ आने के कारण आसपास के 500 घरों में क्षतिग्रस्त हो गईं। सबसे बुरी तरह प्रभावित क्षेत्रों में से एक नगर के निवासी ने कहा कि झील का टूटना इस तरह बदतर हो गया था कि सड़क के किनारे की नाली प्रणाली भी टूट गई थी।

अन्नपूर्णेश्वरी नगर, चन्नान्यकनपालय, मुनेश्वरा लेआउट, भवानी लेआउट और रुक्मिणी नगर लेआउट सहित पड़ोस में 500 से अधिक क्षेत्र की संपत्ति नष्ट हो चुकी थी और झील टूटने के परिणाम स्वरूप लगभग 300 से अधिक वाहनों को भी क्षतिग्रस्त हुई।

"हर साल मानसून के दौरान बाढ़ आती है इसलिए मेरे पास टीवी, फ्रिज या कोई भी महंगी चीजें नहीं होती क्योंकि यह सब बर्बाद हो जाती है, लेकिन पहली बार यह भयंकर बाढ़ आई जिसके दौरान मैं गृहनगर में थी, जब वापस आई तो बाढ़ का पानी ने मेरे सभी अनाज जैसे चावल, गेहूं, और रागी को बर्बाद कर दिया था। मैं अब राहत कोष पर निर्भर हूं जो सरकार हमें देगी।" डेली वेज के एक कर्मचारी, वेंकटेशम्मा ने कहा। लोग इस बाढ़ के परिणामस्वरूप होने वाले नुकसान को लेकर चिंतित थे और पैदा हुए स्वास्थ्य संबंधी खतरे से अपनी दिनचर्या में वापस आने के लिए संघर्ष कर रहे थे।

"मेरे सभी बिजली के उपकरण, रसोई के उपकरण, और फर्नीचर क्षतिग्रस्त हैं,मुझे बताया गया है कि वे मरम्मत से परे हैं।" और "पानी ने मेरी कार में भी प्रवेश किया, लेकिन मैं प्रार्थना कर रहा हूं कि मैं इसे ठीक करवा सकूं।" प्रभावित क्षेत्र के एक निवासी ने कहा।

बीबीएमपी (ब्रूह्त बेंगलुरु महानगर पालिका), एचएमटी लेआउट के रेवेन्यू निरीक्षक, रामकृष्ण ने कहा कि राज्य आपदा राहत कोष अधिनियम के आधार पर प्रभावित निवासियों के लिए राहत राशि आवंटित की जा रही है। उन्होंने यह भी कहा "हमने पहले से ही 100 परिवारों को राहत सामग्री प्रदान करने के लिए प्रक्रिया शुरू की है। उन्हें वितरित करने में समय लग रहा है क्योंकि हमें फर्जी लोगों से वास्तव में प्रभावित निवासियों की पहचान करनी होगी।"

बीबीएमपी कार्यालय के अधिकारियों ने कहा कि बाढ़ से प्रभावित इलाकों में कई घर 'राजा कल्वेस' पर या उसके बगल में बने हैं। (राजा कल्वेस शहर के विभिन्न हिस्सों से बारिश के पानी को सीधे झील में डालने के लिए बनाई गई नहरें हैं।) अब, उन पर खड़े घरों के साथ, बारिश का पानी स्वतंत्र रूप से झीलों में प्रवाहित नहीं हो सकता है, इसके बजाय, यह सीवरेज में चला जाता है, जिसकी वजह से यह ओवरफ्लो हो जाता है। इलीगल संपत्ति वाले घरों में विभिन्न क्षेत्रों में रहने वाले जमींदार, इन घरों को उन लोगों के लिए अल्प मात्रा में किराए पर लेते हैं जो अधिक खर्च नहीं कर सकते। बीबीएमपी के अधिकारियों ने इलीगल रूप से बनाए गए इन घरों के बारे में शिकायत भेजी हैं, और कॉरपोरेशन ऑफिस के असिस्टेंट इंजीनियर, कृष्णप्पा ने कहा, हमने 'राजा कल्वेस विभाग', जयनगर, को सूचित कर दिया है, वे जल्द ही नहर के पास निर्मित मकानों का सर्वेक्षण करेंगे और मालिकों के खिलाफ तुरंत कार्रवाई करेंगे। ”


All stories that are reported, edited and published on this platform are original, produced by the students and faculty of National School of Journalism, sometimes contributed by guest faculty and speakers. If you would like to contribute, please email us at tannoy@nsoj.in NSoJ is a news organisation and a highly-selective Journalism school that trains India’s best journalistic talents to become ethical journalists who care deeply about truth, justice and democracy. If you are passionate about journalism and care about the core values of journalism as we do, please apply for a place in one of NSoJ’s programmes - Bachelor of Arts or PG Diploma in Journalism at www.nsoj.in.